Digital currency kya hai - CBDC Full Form

Digital Currency Kya Hai और CBDC क्या होता हैं ?

RBI ने बहुत समय पहले ही Digital currency को शुरू करने के बारे में जानकारी दी है। इसके अलावा भी दुनिया के दूसरे सेंट्रल बैंक ने भी अपने अपने देश के डिजिटल करेंसी को शुरू करने की तैयारी कर दी है। यह Digital currency क्रिप्टो करेंसी से बिल्कुल अलग तरह की होगी। Digital currency की सबसे बड़ी खास बात यह होगी कि इसको आरबीआई के द्वारा विनियमित किया जा सकेगा। इसकी वजह से लोगों को अपना पैसा डूबने का खतरा भी नहीं रहेगा।

इसमें पोस्ट आप जानेंगे  की  Digital currency kya hai? डिजिटल करेंसी को कब शुरू किया जाएगा? Digital Currency Aur Cryptocurrency Me Kya Antar Hai? CBDC Full Form, Digital Currency Ke Fayde – Benefit of Digital Currency , डिजिटल करेंसी से जुड़ी हुई हर वह जानकारी आपको यहां इस पोस्ट को पढ़ने को मिलेगी तो आइए जानते है,

डिजिटल करेंसी क्या है – Digital Currency Kya Hai

डिजिटल करेंसी नगदी का एक इलेक्ट्रॉनिक रूप होगा। जिसको सरकार के द्वारा मान्यता प्राप्त होगी। इस करेंसी को देश की सेंट्रल बैंक के द्वारा ही जारी किया जाएगा। देश की सेंट्रल बैंक की बैलेंस शीट में भी इसको शामिल किया जा सकेगा। डिजिटल करेंसी की खास बात यह होगी कि इसको वास्तविक करेंसी के रूप में भी बदला जा सकता है। 

डिजिटल करेंसी के प्रकार – Digital Currency Ke Prakar – Type of Digital Currency ?

डिजटल करेंसी 2 प्रकार के होता हैं पहला रिटेल और दूसरा होलसेल के रूप में।

रिटेल डिजिटल करेंसी को आम नागरिक और कंपनियों के द्वारा प्रयोग में लिया जा सकता है, और होलसेल डिजिटल करेंसी को वित्तीय संस्थाओं के द्वारा उपयोग में लिया जा सकेगा।

डिजिटल करेंसी को सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी के रूप में जानते हैं इसको e-mudra के नाम से भी जाना जाता है। 

Digital currency वह currency होती है। जिसको ना तो छुआ जा सकता है और ना ही उनको आप देख सकते हो इसको केवल उपयोग में लिया जा सकता है। आप अपने कंप्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन आदि में अपनी करेंसी को देख सकते हैं और इसको ऑनलाइन उपयोग में ले सकते हैं। 

पेपर करेंसी को तो आप बैंक में जाकर जमा करवा सकते हैं लेकिन डिजिटल करेंसी पूरी तरह से अलग होती है। यह पूरी तरह से इंटरनेट के माध्यम से कंट्रोल में ही की जाती है।

क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी को भारत सरकार के बैंक सेंट्रल बैंक के द्वारा मान्यता मिल गई है। भारत में डिजिटल करेंसी को “डिजिटल रुपया” के नाम से भी जानते हैं। अगर सीधे शब्दों में कहें तो डिजिटल करेंसी को इलेक्ट्रॉनिक रूप से उपयोग करना माना गया है। 

इसके लिए आपको बैंक में जाकर लंबी लाइन में खड़ा होने की अवसयकता नही हैं, बस आपको अपना एक अकाउंट खुलवाना पड़ेगा। उसके बाद आप अपने पैसे को डिजिटल रूप से उपयोग में ले पाएंगे। 

इसे भी पढ़े :-क्रिप्टोकरेन्सी क्या होता हैं और इसमें निवेश कैसे कर सकते हैं | Cryptocurrency Exchange | How To Invest In Cryptocurrency

भारत का डिजिटल करेंसी कब आएगा – Central bank digital currency India

भारत में इसी साल 2022 के बजट के अंतर्गत वित्त मंत्री के द्वारा ऐलान किया गया था कि आरबीआई अगले वर्ष अर्थात साल 2022 वित्त वर्ष में डिजिटल करेंसी को लांच करेगी। 

यह सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी अर्थात CBDC के रूप में जानी जाएगी। अब आपके मन में सवाल आ रहा होगा कि आखिर यह सीबीडीसी क्या होता है, तो आपको बता दें कि सीबीडीसी आरबीआई के द्वारा जारी किया गया डिजिटल करेंसी होता है। 

सीबीडीसी फुल फॉर्म – CBDC Full Form – Indian Digital Currency

CBDC भारतीय डिजिटल करेंसी का शार्ट नाम हैं इसका पूरा नाम CBDC :- Central Bank Digital Currency हैं।

आसान शब्दों में अगर कहे तो सीबीडीसी किसी भी देश का एक तरह से लीगल टेंडर होता है, क्योंकि ये सेंट्रल बैंक के द्वारा डिजिटल रूप से जारी होता है। किसी देश के मॉनिटर अथॉरिटी के द्वारा जारी ऑफिशल करंसी का एक इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड डिजिटल टोकन होता है।

Digital Currency और Cryptocurrency Me Kya Antar Hai?

डिजिटल करेंसी और क्रिप्टो करेंसी में यह अंतर होता है कि डिजिटल करेंसी को एक देश की सरकार के द्वारा मान्यता प्राप्त हो जाती है। यह मान्यता देश की केंद्रीय बैंक के द्वारा जारी होती है। यह पूरी तरह से जोखिमों के अधीन होती है। 

इस करेंसी को सॉवरेन मुद्रा अर्थात उस देश की करेंसी में बदल सकते हैं। वही दूसरी तरफ क्रिप्टो करेंसी में इस तरह की सुविधाएं नहीं होती है।

क्रिप्टो करेंसी की तरह डिजिटल करेंसी की वैल्यू में किसी तरह का उतार-चढ़ाव नहीं होता। लेकिन क्रिप्टो करेंसी में आप काफी उतार-चढ़ाव देख सकते हैं,  

इसका उदाहरण आप सभी जानते हैं  बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी।

बिटकॉइन की वैल्यू में आपने देखे होंगे कि कई तरह के उतार-चढ़ाव उसमें शुरुआत से लेकर अब तक देख सकते हैं ,डिजिटल करेंसी को देश की केंद्र सरकार के द्वारा जारी किया जाता है। उसको मान्यता दी जाती है लेकिन क्रिप्टो करंसी में ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी के आधार पर काम लिया जाता है।

Digital Currency Ke Fayde – Benefit of Digital Currency 

  • डिजिटल करेंसी का सबसे बड़ा फायदा होता है कि इसको किसी भी देश की सरकार के द्वारा मुख्य रूप से इस्तेमाल करने के लिए मान्यता मिल जाती है।
  • डिजिटल करेंसी ऑनलाइन भुगतान के लिए काम में ली जाती है।
  • अक्सर आपने देखा होगा कि लोग पैसे लेने के लिए एटीएम की लंबी लाइन में खड़े रहते हैं लोगों को इससे बहुत परेशानी होती है, ऐसे में आप डिजिटल करेंसी के द्वारा लोगों के समय में बचत होगी और लाइन में भी खड़ा नहीं होना पड़ेगा।
  • कैश रखना लोगों को बिलकुल पसंद नहीं होता है क्योकि इसमें लोगो को खतरा रहता हैं, इसीलिए डिजिटल करेंसी उन सभी के लिए बहुत फायदेमंद होगी।
  • हर देश की गवर्नमेंट नोट छपवाने का कार्य करती है कुछ देशों में तो नोट के साथ सिक्कों का भी इस्तेमाल होता है इसकी वजह से लागत बहुत ज्यादा आती है इसलिए डिजिटल करेंसी के प्रयोग से लागत में बहुत कम ही देखने को मिलेगी।
  • डिजिटल करेंसी का उपयोग इंटरनेट के द्वारा कोई भी व्यक्ति कहीं पर भी किसी भी जगह कर सकता है।
  • कैश को चोरी होने की संभावना होती है, लेकिन डिजिटल करेंसी पूरी तरह से सुरक्षित होती है।

डिजिटल करेंसी के नुकसान – Digital Currency ke Nuksan 

  • डिजिटल करेंसी पूरी तरह से सुरक्षित होती है लेकिन पूर्ण रूप से आप को सुरक्षित नहीं कर सकते क्योंकि इसका जो संबंध है वह इंटरनेट और टेक्नोलॉजी पर आधारित है।  आप सभी जानते हैं कि इस समय साइबर क्राइम जैसे खतरे अक्सर इंटरनेट पर ही आप देख सकते हैं।
  • डिजिटल करेंसी के उपयोग से विभिन्न बैंकों में कर्मचारियों की संख्या में वृद्धि देखने को मिल सकती है क्योंकि जब पैसा इलेक्ट्रॉनिक रूप से बनने लग जाएगा तो इंसानों की जरूरत है कम होने लगेगी।
  • लोगों के मन में अपनी नौकरी को जाने का खतरा भी बना रहेगा।
  • डिजिटल करेंसी का लेनदेन इंटरनेट के द्वारा किया जाता है।

अगर आप अपने पैसे को बढ़ाना चाहती हो या फिर ऑनलाइन पैसे कमाना चाहते हो तो इसमें एक तरीका है डिजिटल करेंसी का जिसमें आप अपने पैसे इन्वेस्ट भी कर सकते हो इसमें इन्वेस्ट करने से आपके पैसे पर टैक्स नहीं लगता है। इसलिए ज्यादातर लोग क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी में इनवेस्ट करते हैं ।

हमेशा अपडेट रहने के लिए ग्रुप ज्वाइन करें। 

निष्कर्षConclusion

हमें उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। हमने आपको Digital currency kya hai? Digital currency के फायदे और नुकसान क्या है और Digital currency किसके द्वारा चलाई जाती है इसके बारे में पूरी जानकारी दी है यह जानकारी पसंद आई हो तो पोस्ट को शेयर जरूर करें। ताकि दूसरे व्यक्ति का भी फायदा हो सके। और Digital Currency से सम्बंधित कोई भी सवाल हो  कमेंट करें। 

”आप सभी पाठको से मेरा गुजारिश हैं की आपलोग को ये जानकारी कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताइये।  और यह जानकारी अपन आस-पड़ोस, मित्र, रिस्तेदार, संबधी के साथ Share करें। आपलोगों की सहयोग की अवसायकता हैं। जिससे मैं आपलोगों के लिए नई-नई जानकारी से अपडेट रख सकू।” धन्यवाद www.HowToInvest.com

इसे भी पढ़े :- डिजिटल मतलब क्या होता हैं, Digital Kya Hai, Digital Marketing Kya Hai

इसे भी पढ़े:– RTI Kya Hai | सूचना का अधिकार क्या है | RTI कैसे लगाये सभी जानकारी यहाँ पढ़े ।

By Jeetlal

Investment is Better for the Future.

Leave a Reply